jotjirh

विश्वकर्मा काष्ठ शिल्पी विकास समिति बिहार के महासचिव और मुख्य संरक्षक शिव पूजन ठाकुर एवं श्री राम भरोश शर्मा के कड़ी मेहनत से पर्यावरण एवं वन विभाग, बिहार सरकार के संकल्प सं0-2675 दिनांक 30.08.2010 द्वारा लिये गए निर्णय को संशोधित करते हुए राज्य स्तर पर आरा मिलों की संख्या-3200 तथा ऐसे ईकाई जिनमें विनियर मिल अकेले हो अथवा विनियर मिल के साथ आरा मिल / प्लाईवुड पेस्टिंग भी स्थापित है की संख्या 450 लागू करने की स्वीकृति प्रदान कराने में सफलता मिली है।

image 2

ये लड़ाई बड़े लम्बे अर्से से लड़ी जा रही थी। संस्था के द्वारा सुप्रीम कोर्ट में भी केस किया गया था। कई बार राज्य सरकार को भी पत्र लिखकर समस्याओं से अवगत कराया गया था कई बार वन एवं पर्यावरण विभाग के मंत्री से वार्ता भी हुई,अब जा के संस्था के लोगों को सफलता मिली है और इस सफलता में संस्था के मुख्य संरक्षक श्री राम भरोश शर्मा की अहम भूमिका रही है। श्री शर्मा ने बताया बिहार सरकार के शिथिलता को देखते हुए संस्था ने उच्च न्यायालय में CWJC नं० 13926/2021 दाखिल कर न्याय के लिए अपनी बात रखी दिनांक 17.01.2022 को माननीय उच्च न्यायालय ने आदेश दिया कि 6 सप्ताह के अन्दर इस मामले का निष्पादन किया जाय।

image
image 1

उक्त आदेश के आलोक में प्रधान मुख्य वन संरक्षक बिहार ने अपने पत्रांक 1909 दिनांक 13.09.2022 के द्वारा 3200 आरामिल एवं 450 विनियर मिल को स्वीकृति करने हेतु सरकार को पत्र भेजा। उसी पत्र के आलोक में दिनांक 06.06.2023 को मंत्री मंडल ने स्वीकृत किया है। संस्था के 23 वर्षो के तपस्या, खर्च एवं परेशानी का प्रतिफल मिला है। उक्त आदेश में संस्था के अलावे किसी व्यक्ति की कोई भूमिका नहीं है। इस सफ़लता से महासचिव एवं मुख्य संरक्षक को बधाई देने वालो का तांता लगा हुआ है। ये सूचना संस्था के जिला सचिव राहुल रमण ने दी।

Rishav Roy, a journalist with four years of expertise, excels in content writing, news analysis, and cutting-edge ground reporting. His commitment to delivering accurate and compelling stories sets him...